भारत के वन -I

June 1, 2017

1.उष्ण कटिबंधीय सदाबहार व अर्ध सदाबहार वन

मुख्यतः पश्चिमी घाट के पश्चिमी ढाल पर ,उत्तर – पूर्वी क्षेत्र की पहाड़ियों पर व अंडमान निकोबार द्वीप समूह में पाए जाते हैं| ये वन ऐसे उष्ण व आर्द्र प्रदेशों में पाए जाते है जहाँ वार्षिक वर्षा 200 cm से अधिक व तापमान 22 डिग्री C से अधिक रहता है .वृक्षों की लम्बाई 60 m या उससे अधिक होता है|यहां के मुख्य वृक्ष – रोजवुड ,महोगनी ,ऐनी ,ऐबनी , रबड़ ,आबनूस ,आयरन वुड ,ताड़, बाँस,बैत ,सिनकोना हैं| अर्ध सदाबहार वन अपेक्षाकृत कम वर्षा वाले भाग में पाए जाते है इसकी मुख्य वृक्ष प्रजातियां – साइडर ,होलक और कैल हैं |

2.उष्ण कटिबंधीय पर्णपाती वन

इसे मानसून वन भी कहते है यहाँ वार्षिक वर्षा 70 – 200 cm तक होती है ये जल उपलब्धता के आधार पर आर्द्र व शुष्क पर्णपाती वन में वर्गीकृत हैं |

A.आर्द्र पर्णपाती

यहाँ वार्षिक वर्षा – 100 – 200 cm तक होती है यह वन मुख्यतः उत्तर पूर्वी राज्यों और हिमालय के गिरिपाद , पश्चिमी घाट के पूर्वी ढाल और ओडिशा में पाए जाते है यहाँ के प्रमुख वृक्ष सागवान ,साल , शीशम , हुर्रा , महुआ , आंवला , सेमल , कुसुम ,चन्दन व शहतूत हैं |

B.शुष्क पर्णपाती वन

ये वन 70 -100 cm तक वार्षिक वर्षा क्षेत्र में पाए जाते हैं ये प्रायद्वीप में अधिक वर्षा वाले भागों में और उत्तर प्रदेश व बिहार के मैदानी भागों में पाए जाते है| यहाँ के प्रमुख वृक्ष तेंदु,पलास ,अमलतास ,बेर , खैर और अक्सल्वूड|

3.उष्ण कटिबंधीय कांटेदार वन

ये वन वार्षिक वर्षा – 50 cm से कम के क्षेत्र में पाए जाते हैं इनके क्षेत्र में मुख्यतः दक्षिण पश्चिम पंजाब , हरियाणा , गुजरात ,मध्य प्रदेश व उत्तर प्रदेश के अर्ध शुष्क क्षेत्र शामिल है बबूल ,बेर ,खजूर ,खैर ,नीम ,खेजड़ी ,पलास ,नागफनी इसके प्रमुख वृक्ष हैं |वृक्षों के नीचे लगभग 2 m लम्बी घास उगती है |

4.पर्वतीय वन

पर्वतीय क्षेत्रों में ऊंचाई के साथ तापमान घटने के साथ वनस्पति में भी बदलाव आता है ये दो भागों में बटे हैं

A.उत्तर पर्वतीय वन

हिमालय के गिरिपद पर पर्णपाती वन पाए जाते है आगे 1000 -2000 m की ऊंचाई पर आद्र शीतोष्ण कटिबंधीय प्रकार के वन पाए जाते है और हिमालय के पश्चिमी भाग में देवदार के वन पाए जाते है|

B.दक्षिण पर्वतीय वन

इसके अंतर्गत पश्चिमी घाट , विंध्याचल और नीलगिरि पर्वत श्रृंखलाएं आते है|ऊंचाई वाले क्षेत्र में शीतोष्ण कटिबंधीय और नीचले क्षेत्र में उपोष्ण कटिबंधीय प्राकृतिक वनस्पति पाई जाती है शीतोष्ण कटिबंधीय वन को शोलास के नाम से जाना जाता है

5.हिमालय क्षेत्र

ये दो हिस्सों में बटा हुआ है पहला पूर्वी और दूसरा पश्चिम क्षेत्र

A.पूर्वी क्षेत्र

इस क्षेत्र में निम्न वन पाए जाते हैं

1.उष्ण कटिबंधीय आद्र पर्णपाती वन

यहाँ 900 m की ऊंचाई तक वृक्ष पाए जाते है इनमें मुख्य वृक्ष – साल , शीशम ,सागवान ,बाँस ,सबई घास हैं |

2.उपोष्ण वन

यहाँ 900 -1830 m की ऊंचाई तक पाए जाते है जिनमें प्रमुख वृक्ष – ओक , चेस्टनट हैं |

3.शीतोष्ण वन

यहाँ के वृक्ष 1830 – 2740 m की ऊंचाई तक पाए जाते है प्रमुख वृक्ष – ओक ,मैपिल ,बर्च ,मैग्नेलिया ,एल्डर हैं |

4.शीत शीतोष्ण वन

यहाँ वृक्ष 2740 – 3660 m की ऊंचाई तक पाए जाते है , प्रमुख वृक्ष – चीड़ ,स्प्रूस, देवदार (शंकुधारी वनों की पेटी)|

5.अल्पाइन वन

यहाँ वृक्ष 3660 4876 m की ऊंचाई तक पाए जाते है ,प्रमुख वृक्ष – सिल्वर फर, जुनीपर हैं |

6.टून्द्रा वनस्पति

वृक्ष 4876 – 5100 m की ऊंचाई तक पाए जाते है. और छोटी झाड़ियां , घास , काई एवं फूल वाले पौधे पाए जाते है|

B.पश्चिमी हिमालय वन

पूर्वी हिमालय की तुलना में अधिक शुष्क और ठंडा इलाका इसमें परजीवी पौधे और फर्न का अभाव होता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recent Posts

  • जून 12,2017

    प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी 25 जून से अमरीका यात्रा पर जाएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस महीने की 25 तारीख को दो दिन की अमरीकी यात्रा पर जाएंगे। यात्रा के दौरान श्री Full Story

  • गेटवे ऑफ़़ इंडिया-भारत का आगमन विन्दु

    गेटवे ऑफ़़ इंडिया भारत का एक ऐतिहासिक स्मारक है जो मुम्बई में होटल ताज महल के ठीक सामने स्थित है। यह स्मारक साउथ मुंबई के अपोलो बन्दर क्षेत्र में अरब Full Story

  • जून 11,2017

    वस्‍तु और सेवा कर परिषद ने इंसुलिन सहित 66 वस्‍तुओं की कर दर घटाई। कम्‍पोजीशन सीमा पचास लाख से बढ़ाकर पिचहत्‍तर लाख रुपये की गई। वित्‍त मंत्री अरूण जेटली ने Full Story

  • जून 10,2017

    राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने ‘सेल्फी विद डॉटर’ मोबाइल एप्लिकेशन लॉन्च किया राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने आज ‘सेल्फी विद डॉटर’ मोबाइल एप्लिकेशन लॉन्च किया, जिसका उद्देश्य महिला भूर्ण हत्या या लिंग Full Story

  • जून 09,2017

    भारत शंघाई सहयोग संगठन का पूर्णकालिक सदस्‍य बना। शंघाई सहयोग संगठन सम्‍मेलन आज कजाख्‍स्‍तान की राजधानी अस्‍ताना में शुरू हुआ। सम्‍मेलन के छह सदस्‍य देश -चीन, कजाख्‍स्‍तान, किरगिज़िस्‍तान, रूस, तजाकिस्‍तान Full Story

  • WHO का एंटीबायोटिक प्रोटोकोल संशोधन

    हमारे दैनिक जीवन में एंटीबायोटिक के अत्यधिक उपयोग और निर्भरता को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपनी एंटीबायोटिक प्रोटोकोल को संशोधित किया है |एंटीबायोटिक प्रतिरोधक क्षमता में हो रही Full Story

  • जून 08,2017

    तेल विपणन कंपनियां इस महीने की 16 तारीख से पूरे देश में प्रति दिन डीजल और पेट्रोल की कीमते तय करेंगी। सरकारी तेल विपणन कम्‍पनियां इस महीने की 16 तारीख Full Story

  • जून 07,2017

    भारत शंघाई सहयोग संगठन का पूर्ण सदस्‍य बनेगा भारत, कजाकिस्‍तान की राजधानी अस्‍ताना में कल से शुरू हो रहे शंघाई सहयोग संगठन – एस सी ओ के दो दिवसीय शिखर सम्‍मेलन Full Story

Latest